Baby Movie Review in 2023: Best Cult Romantic Movie

Posted by

Spread the love

जी हाँ आज हम Baby Movie Review करने वाले है, ये बॉलीवुड कि बेबी नहीं बल्कि तमिल “Baby” है | जब तक रोना नहीं आया था तब तक भारत मे सिर्फ बॉलीवुड मूवीज ही राज करते थे, पर कोरोना ने सब कुछ बदल कर रख दिया और हम हिन्दी के अलावा दूसरी भाषाओ कि भी फिल्मे देखने लगे |

जिसमे बहुत लोगों का इन्टरेस्ट South movies कि तरफ गया और हम सभी साउथ कि मूवीज को पसंद भी करने लगे | तो आज मै भी आपको तमिल मूवी “Baby” का रिव्यू देने वाली हूँ| उम्मीद है आप सभी को पसंद आएगा –

Baby Movie Review in Hindi

मूवी रिव्यू देने से पहले इस मूवी के किरदारों के बारे मे  अवश्य जान ले | इस मूवी का निर्देशन साई राजेश द्वारा किया गया है, जिसमे आनंद देवरकोंडा, विराज अश्विन और वैष्णवी चैतन्य ने मुख्य अभिनय किया है | इस फिल्म के गानों ने chartbuster पर धमाल मचा कर रखा है |

आनंद देवरकोंड ने अपनी चार फ़िल्मों में से अभी तक सिर्फ़ एक ही हिट दिया है – ‘मिडिल क्लास मेलोडीस’. अब वे इसी के निर्देशन में बनी ‘बेबी’ नामक प्रेम कथा को आप सभी के सामने लेकर आए है | ‘

Baby Movie Review

Baby Movie Story

यह कहानी एक ही बस्ती में रहने वाले आनंद (आनंद देवरकोंडा) और वैष्णवी (वैष्णवी चैतन्य) के बीच बदलते प्यार की बात करती है। वे एक ही स्कूल में पढ़ते हैं, जब कॉलेज जाने का समय होता है तब वैष्णवी तो तो कॉलेज चली जाती है पर आनंद नहीं जा पता है और ऑटो चालक के रूप में काम करना शूरु कर देता हैं।

वैष्णवी एक इंटर कॉलेज में चली जाती है और इंजीनियरिंग पढ़ रही होती है। वहाँ वैष्णवी कि लाइफ मे बहुत सारे चेंज आते है और वह नशा करने लगती है | और यही बात आनंद और वैष्णवी के बीच अंतर बढ़ाती है और दूसरी ओर, डब्बूनु विराज (विराज अश्विन) के करीब आती है और उससे प्यार हो जाता है |

इन तीनों के लाइफ मे होने वाले चेंजेस कि वजह से बहुत कुछ चेंज होने लगता है, इन सब से वो कैसे निपटते है इस मूवी मे आपको देखने को मिलेगा |

इस फिल्म का मुख्य उद्देश्य Youth को आकर्षित करना है और उन्हें एक Strong Love Story का भी अनुभव कराना है। आनंद देवरकोंडा की ‘बेबी’ फ़िल्म ने दर्शकों के बीच कल्ट क्लासिक मूवी की पहचान बना ली है।

Positive Factor of Baby Movie Review

  • Baby Movie मॉर्डन टाइम के रिश्तों पर बनी एक खूबसूरत प्रस्तुति है, साई राजेश  जो इस फिल्म के निर्देशक है इस फिल्म के तीनों किरदारों को बहुत ही खूबसूरती के साथ दिखाया है |
  • इस मूवी का end होते होते इन तीनों पात्रो के किरदार से आपको प्यार होने लगेगा | मूवी का वह सीन जब दोनों Male Actor मिलते है वो  सीन बहुत ही खूबसूरत तरीके से दिखाया गया है |
  • फिल्म का दूसरा भाग भावनाओं, ड्रामा, और खूबसूरत लम्हों के सही मिश्रण के साथ काफी अच्छा है।
  • फिल्म कि Dialogue डेलीवेरी बहोत Awesome है जिससे बेबी मूवी और भी आकर्षित होती जाती है, जो  दर्शकों के दिलों में अंदर तक घुसती ही जाएगी। इसमें बहोत सारे ऐसे पल भी होंगे जहां आपको भी सीटी बजाने का मन हो ही जाएगा |
  • इस फिल्म मे कुछ सीन्स को देख कर आपको अंदर से बहुत ज्यादा आनंद कि अनुभूति होती है |
  • आनंद देवरकोंडा के शानदार अभिनय ने दर्शकों का दिल जीतने मे कोई भी कमी नहीं राखी |
  • इस फिल्म मे वैष्णवी चैतन्य का कैरेक्टर को बहुत अच्छे से डिजाइन किया गया है जिससे उनकी ऑपरटीभ भी उभर कर आती है।
  • संगीतकार विजय बुल्गानिन का लिखा हुआ हर एक गाना बहुत ही ज्यादा अच्छा है |

Negative Points of Baby Movie Review

  • इस फिल्म को कुछ ज्यादा ही लंबा कर दिया गया है, क्योंकि इसका करीब तीन घंटे इसका रन टाइम है।
  • फिल्म को फर्स्ट हाफ मे थोड़ा छोटा बयान जा सकता था
  • आपको मूवी फर्स्ट हाफ मे स्लो लगेगी और आपकी मूवी को देखने कि दिलचस्पी कम हो जाएगी |
  • पहला घंटा धीमी गति से चलता है,
  • कई सीन्स ऐसे है जो लगता है आपको जबरदस्ती ही देखना पड़ रहा है |

Technical Aspects: Baby Movie Review

  • जैसा कि मैंने पहले ही बताया विजय सर के संगीत के क्या कहने, इस फिल्म कि जान है जिसकी वजह से फिल्म नेक्स्ट लेवल पर चली जाती है |
  • अति उत्तम सिनेमैटोग्राफी फिल्म मे चार चाँद लगा देते है जिसका सारा श्रेय बालरेड्डी सर को जाता है जिस तरीके से गानों के सीन्स को फिल्माए गए है |
  • साई राजेश सर जो इस फिल्म के लेखक और निर्देशक है वो Baby फिल्म को बेहतरीन ढंग से दिखने मे कुछ हद तक कामयाब हुए है |
  • साई राजेश को Actors  को किस तरीके से काम करवाया जाए वो आता है जिसका इस्तेमाल उन्होंने बखूबी किया है |

Conclusion: Baby Movie Review

  • कुल मिलाकर बेबी आधुनिक दौर के रिश्तों पर साफ-सुथरे तरीके से प्रकाश डालती है और चरमोत्कर्ष अपरंपरागत है।
  • विराज अश्विन, आनंद देवरकोंडा और वैष्णवी चैतन्य के बेहतरीन प्रदर्शन वाली फिल्म है
  • फिल्म का सेकंड हाफ बिल्कुल सही ट्रैक पर है पर फर्स्ट हाफ स्लो होने कि वजह से सेकंड हाफ का प्रभाव थोड़ा कम होने लगता है |
  • फिल्म को थोर ज्यादा ही लंबा खिच दिया गया है जिससे थोड़ी बोरियत होती है |
  • पर कुछ भी हो, Baby Movie इस वीक के लिए एक अच्छी मूवी है | एक बार जरूर देखे

आप सभी को मेरा Baby Movie Review कैसा लगा कमेंट्स जरूर करे |

Read also:- Tarla Dalaal : सिम्पल हाउस वाइफ से टीवी तक का सफर |


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: